Sunday, November 9, 2014

बर्लिन की दिवार

 बर्लिन की दीवार (जर्मन: Berliner Mauer बर्लीनर माउअर) पश्चिमी बर्लिन और जर्मन लोकतांत्रिक गणराज्य के बीच एक अवरोध थी जिसने 28 साल तक बर्लिन शहर को पूर्वी और पश्चिमी टुकड़ों में विभाजित करके रखा। द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद जब जर्मनी का विभाजन हो गया, तो सैंकड़ों कारीगर और व्यवसायी प्रतिदिन पूर्वी बर्लिन को छोड़कर पश्चिमी बर्लिन जाने लगे। इससे पूर्वी जर्मनी को आर्थिक और राजनैतिक रूप से बहुत हानि होने लगी। बर्लिन दीवार का उद्देश्य इसी प्रवासन को रोकना था।


१. बर्लिन की दिवार किस देश का एक भाग थी?  - जर्मन
२. कितने साल तक बर्लिन शहर को पूर्वी और पश्चिमी टुकड़ों में विभाजित करके रखा? - 28 साल
३. बर्लीन की दिवार का निर्माण कब किया गया?  - 13 अगस्त 1961
४. बर्लिन की दिवार की उंचाई कितनी थी? - 3.60 m
५. इसे कब तोड़ दिया गया? - 9 नवम्बर, 1989  के बाद के सप्ताहों में
६. जर्मनी का विभाजन कब हो गया? - द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद
७. इस दीवार के विचार की कल्पना किसके के प्रशासन ने की? - वाल्टर उल्ब्रिख़्त
८. और किस सोवियत नेता ने इसे मंजूरी दी? - निकिता ख्रुश्चेव
९. पूर्वी जर्मन सरकार ने सभी जीडीआर के नागरिकों पश्चिम जर्मनी और पश्चिम बर्लिन की यात्रा कर सकता है यह घोषणा कब की गई? - 9 नवम्बर 1989
१०. जर्मनी फिर से कब एक हो गया? - 3 अक्टूबर 1990















image credit:http://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/5/5d/Berlinermauer.jpg

No comments:

Post a Comment