Friday, November 27, 2015

कबीरवड


          गुजरात में नर्मदा नदी के तट पर एक पवित्र और सुंदर स्थल है, जो 'कबीरवड' नाम से प्रसिद्ध हैकबीरवड भरूच के विख्यात शुक्लतीर्थ मंदिर से लगभग १५ कि.मी. दूर है। कबीरवड गुजरात के इतिहास में कई वर्षों से एक पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है। यहाँ संत कबीर का मंदिर है। उन्होंने यहा कई वर्ष गुजारे थे। उस समय सिर्फ एक ही बरगद का पेड़ थाउसकी शाखाओ से फैलते हुए यह पेड़ ३ कि.मी. के क्षेत्र के अंतराल पर फैल गये है। कबीरवड और आसपास के तीर्थ क्षेत्रो इस जगह का मुख्य आकर्षण है इस जगह पहुचने के बाद आपको सिर्फ बरगद की हरियाली ही नजर आएगी। यहाँ गर्मी में भी धुप जमीन तक नहीं पहुंच पाती है।
       इस तरह यह जगह पर लोगों सिर्फ एतिहासिक कारणों से ही नहीं आते है, बल्कि यहाँ की भव्य शांति और पवित्रता का आनंद लेने के लिए भी आते है





Image Credits: gujarattourism.com

No comments:

Post a Comment