Saturday, February 6, 2016

“इंकाओं का खोया शहर”

    माचू पिच्चू दक्षिण अमेरिकी देश पेरू में स्थित एक कोलम्बस-पूर्व-युग, इंका सभ्यता से संबंधित एतिहासिक स्थल है। यह समुद्र तल से २,४३० मीटर की ऊंचाई पर उरुबाम्बा घाटी, जिसमे से उरुबाम्बा नदी बहती है, इसके ऊपर एक पहाड़ स्थित है। इसे अक्सर “इंकाओं का खोया शहर” भी कहा जाता है। ७ जुलाई २००७ को घोषित विश्व के सात नए आश्चर्यों में माचू पिच्चू भी एक है।
     ई. १४३० के आसपास इंकाओं ने इसका निर्माण अपने शासकों के आधिकारिक स्थल के रूप में शुरू किया था,  लेकिन इसके लगभग सौ साल बाद, जब इंकाओं पर स्पेनियों ने विजय प्राप्त कर ली तो इसे यूँ ही छोड दिया गया। हालांकि स्थानीय लोग इसे शुरू से जानते थे पर सारे विश्व को इससे परिचित कराने का श्रेय हीरम बिंधम को जाता है, जो एक अमेरिकी इतिहासकार थे और उन्होने इसकी खोज १९११ में की थी, तब से माचू पिच्चू एक महत्वपूर्ण पर्यटन आकर्षण बन गया है। माचू पिच्चू को १९८१ में पेरू का ऐतिहासिक देवालय घोषित किया गया और १९८३ में यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल का दर्जा दिया गया।



Image Credits: Wikipedia
Source Credits: Wikipedia