Monday, March 14, 2016

हिरोइन ऑफ हाइजैक


        नीरजा भनोट मुंबई में पैन ऍम एयरलाइन्स की विमान परिचारिका थीं। उनका जन्म ७ सितम्बर १९६३ में चंडीगढ़ में हुआ था। ५ सितम्बर १९८६ में मुंबई से न्युयोर्क जा रहे पैन ऍम फ्लाइट ७३ को आंतकवादियों ने अपहृत कर लिया और सारे यात्रियों को बंधक बना लिया। नीरजा उस विमान में सीनियर पर्सर के रूप में नियुक्त थीं। जब आंतकवादीयों ने यात्रियों की हत्या शुरू कर दी और विमान में विस्फोटक लगाने शुरू किये तो नीरजा विमान का इमरजेंसी दरवाजा खोलने में कामयाब हुई और यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला। लेकिन अंत में कुछ बच्चों को विमान से सुरक्षित निकालने की  कोशिश दौरान आंतकवादियों की गोलियों की बौछार से नीरजा की मृत्यु हुई।

    नीरजा के इस वीरतापूर्ण आत्मोत्सर्ग ने उन्हें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर हिरोइन ऑफ हाइजैक के रूप में मशहूरियत दिलाई। उनकी बहादुरी के लिए मरणोपरांत उन्हें भारत सरकार ने शान्ति काल के अपने सर्वोच्च वीरता पुरस्कार ‘अशोक चक्र’ से सन्मानित किया। और वर्ष २०११ में उनके ऊपर एक फ़िल्म के निर्माण की घोषणा हुई, जिसमें उनका किरदार सोनम कपूर ने अदा किया। फिल्म की शुरुआत २०१५में हुई और इसे फ़रवरी २०१६ को रिलीज किया गया।

Image Credits: Wikipedia
Source Credits: Wikipedia