Thursday, March 10, 2016

कोहरा क्या है और कैसे बनता है?


      कोहरा ठंडी आर्द्र हवा में बनता है और इसके अस्तित्व में आने की प्रक्रिया बादलों जैसी ही होती है। गर्म हवा की अपेक्षा ठंडी हवा अधिक नमी लेने में सक्षम होती है और वाष्पन के द्वारा यह नमी ग्रहण करती है। ये वह बादल होता है जो भूमि के ऊपर हवा में ठहरा हुआ हो वह कोहरा नहीं होता बल्कि बादल का वह भाग जो ऊपरी भूमि के सपर्क में आता है, वह कोहरा कहलाता है। इसके अतिरिक्त कोहरा कई अन्य तरीकों से भी बनता है। लेकिन अधिकांश कोहरे दो श्रेणियों, एडवेक्शन फॉग और रेडिएशन फॉग में बदल जाते हैं। दोनों ही प्रकार में कोहरा हवा आम हवा से अधिक ठंडा मह्सूस होता है। ऐसा उसमें भरी हुई नमी के कणों के कारण होता है।

    कोहरा कई पहाड़ी घाटियों में भी छाता है। वहां ऊपरी गर्म हवा ठंडी हवा को जमीन के निकट रखती है। ऐसा कोहरा प्राय: सुबह के समय होता है। सूरज निकलने के बाद ठंडी हवा गर्म होती है और ऊपर उठती है। इसके बाद से कोहरा छंटना शुरू हो जाता है।  




Image Credits: Wikipedia

Source Credits: Wikipedia


मिस्र के पिरामिड 

अंतरिक्ष पर पहुँचनें वाली पहली भारतीय महिला