Sunday, June 4, 2017

गीताप्रेस


विश्व की सर्वाधिक हिन्दू धार्मिक पुस्तके प्रकाशित करने वाली संस्था गीताप्रेस या गीता मुद्रणालय है| यह कार्य गीताप्रेस उत्तर प्रदेश के गोरखपुर शहर के शेखपुर इलाके की एक इमारत में कर रही है, जिसमे लगभग 200 कर्मचारी काम कर रहे है|

गीताप्रेस की स्थापना सन् ई. 1923 में श्री जयदयाल गोयन्दका ने की थी| अब तक गीताप्रेस में 45.45 करोड़ से भी अधिक प्रतियों का प्रकाशन किया जा चूका है| गीताप्रेस के पुस्तकों की मांग इतनी ज्यादा है की यह प्रकाशन हाउस मांग पूरी नहीं कर पा रही है| आज तक धार्मिक किताबो में सबसे ज्यादा मांग रामचरितमानस की है|

गीताप्रेस का उदेश्य मुनाफा कमाने का नहि, पर सद्प्रचार के लिए पुस्तक छापने का है और न ही वो सरकार, संस्था या किसी व्यक्ति के पास किसी तरह का कोई अनुदान नहीं लेती है|









No comments:

Post a Comment