Thursday, October 5, 2017

भारत की सबसे बड़ी लोकप्रिय गायिका



भारत की सबसे बड़ी लोकप्रिय गायिका और आदरणीय गायिका लता मंगेशकर ने 30 से ज्यादा भाषाओं में गीत गाये है; पर उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में एक पार्श्वगायक के रूप में रही है। पूरी दुनिया उनके जादुई आवाज़ कि दीवानी रही है।

लता जी का जन्म मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में 28 सितंबर 1929 को मराठा परिवार में सबसे बड़ी बेटी के रूप में पंडित दीनानाथ मंगेशकर के घर हुआ। उनके पिता रंगमंच के कलाकार एवं गायक रहे। 5 साल की उम्र से ही लता जी ने अपने पिता के साथ एक रंगमंच कलाकार के रूप में अभिनय करना शुरू कर दिया था। जब वे 7 साल की थी तब वह महाराष्ट्र आ गई। 


बचपन से ही उनका स्वप्न गायक बनना था। वसंत जोगलेकर द्वारा निर्देशित फिल्म में कीर्ति हसाल के लिए उन्होंने पहली बार गाया। उनके पिता नहीं चाहते थे कि लता जी फिल्मो के लिए गाये। इस कारण उसे फिल्म से निकाल दिया गया; पर उसकी प्रतिभा से वसंत काफी प्रभावित थे। जब वह 13 कि थी तब उनके पिता का निधन हो गया। इस कारण उसे पैसो की बहुत किल्लत झेलनी पड़ी और काफी संघर्ष करना पड़ा था।

लता जी को अभिनय पसंद नहीं था; पर पिता के मृत्यु कि वजह से पैसो के लिए उन्होंने हिंदी और मराठी फिल्मो में काम किया। उन्होंने 1942 में रिलीज हुई पाहिली मंगलागौर नामक पहली फिल्म की। इसके बाद तो उन्होंने कई फिल्म की। 


फिर से वो 1947 में वसंत कि फिल्म में गाना शुरू किया और इसके कारण उनकी काफी चर्चा भी हुए; जिसके बाद उन्हें कई और गाने के मौके भी मिले लेकिन पार्श्वगायिका के रूप में असली पहचान 1949 में फिल्म महल का आयेगा आनेवाले गीत से मिली। इस गीत से उनकी जिंदगी में वह मोड़ आया जिसके बाद वे कभी पीछे मुडकर नहीं देखा।

पिता के मृत्यु कि वजह से सभी भाई-बहन के जिम्मेदारी उन पर आ गई। अपने सब छोटे भाई-बहनों को फिल्म में काम दिलवाया और उनका परिवार भी बसाये; पर स्वयं लता जी अविवाहित रहे। वे भारत रत्न से सम्मानित हो चुके है। साथ ही साथ उन्हें पद्म भूषण, दादा साहेब फाल्के पुरस्कार, पद्म विभूषण के साथ ही साथ कई अन्य पुरस्कार का