Sunday, May 26, 2019

लड़ाकू विमान उड़ाने वाली दूसरी महिला पायलट बनीं भावना कंठ

फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ ने शुक्रवार को इतिहास में अपना नाम दर्ज करा लिया। वह भारतीय वायु सेना की दूसरी महिला पायलट है जिन्होंने लड़ाकू विमान अकेले उड़ाया है। भावना ने यह उड़ान भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमान मिग-21 'बाइसन' में अंबाला एयर फोर्स स्टेशन से भरी।

बिहार के दरभंगा की रहने वाली भावना कंठ ने कहा कि बचपन से ही उनका सपना एक आसमान में उड़ने का था और उसी के कारण उन्होंने भारतीय वायु सेना में भर्ती होने का फैसला लिया। भारतीय वायु सेना में सबसे बेहतरीन पायलट को फाइटर स्ट्रीम में जाने का मौका मिलता है। भावना का कहना है कि वह अपने देश के लिए लड़ना चाहती हैं और चाहती हैं कि उनके पैरंट्स को उन पर गर्व हो।

भावना से पहले इसी साल फरवरी में फ्लाइंग ऑफिसर अवनी चतुर्वेदी भारतीय वायु सेना की पहली महिला पायलट बनीं थीं जिन्होंने अकेले लड़ाकू विमान उड़ाया था। अवनी ने भी 19 फरवरी को मिग-21 'बाइसन' में जामनगर बेस से उड़ान भरी थी। गौरतलब है कि मिग-21 'बाइसन' दुनिया में सबसे तेज लैंडिंग और टेकऑफ के लिए जाना जाता है। यह 340 किलोमीटर प्रति घंटा की अधिकतम रफ्तार से लैंडिंग और टेकऑफ करता है।

भावना कंठ और अवनी चतुर्वेदी के अलावा मोहना सिंह भी भारतीय वायु सेना में फाइटर पायलट की ट्रेनिंग ले रही हैं। इन तीनों को ही बेसिक ट्रेनिंग के बाद जून 2016 में फाइटर स्ट्रीम में शामिल किया गया था। प्रायोगिक तौर पर इन तीनों महिला फाइटर पायलट को 5 साल के लिए वायु सेना की फाइटर स्ट्रीम में लिया गया है।

No comments:

Post a Comment