Friday, June 21, 2019

भारत की प्रथम महिला विमान चालक

लाहौर हवाई अड्डा और साल 1936| इक्कीस वर्षीया सरला ठकराल ने अपनी साड़ी का पल्लू ठीक किया और जा बैठीं जिप्सी मॉथ नामक दो सीटों वाले विमान में| आँखों पर चश्मा चढ़ाया और ले उड़ीं उसे आकाश में| 


इस तरह वो भारत की पहली महिला विमान चालक बनीं| सरला ठकराल ने 1929 में दिल्ली में खोले गए फ़्लाइंग क्लब में विमान चालन की ट्रेनिंग ली थी और एक हज़ार घंटे का अनुभव बटोरा था| वहीं उनकी भेंट अपने भावी पति से हुई| शादी के बाद उनके पति ने उन्हें व्यावसायिक विमान चालक बनने के लिए प्रोत्साहन दिया| 

सरला ठकराल जोधपुर फ्लाइंग क्लब में ट्रेनिंग लेने लगीं| 1939 में एक विमान दुर्घटना में उनके पति मारे गए| फिर दूसरा विश्व युद्ध छिड़ गया और जोधपुर क्लब बंद हो गया| उसके बाद उन्होंने अपने जीवन की दिशा बदल ली| 

उनके माता-पिता ने उनका दूसरा विवाह किया और वो विभाजन के बाद लाहौर से दिल्ली आ गईं| 

No comments:

Post a Comment