Wednesday, June 5, 2019

अंतरराष्ट्रीय डेटलाइन

अंतरराष्ट्रीय तिथि रेखा एक काल्पनिक रेखा है जो कैलैंडर के दो क्रमिक दिनों को अलग करती है| यह रेखा प्रशान्त महासागर के बीचों-बीच 180 डिग्री याम्योत्तर पर उत्तर से दक्षिण की ओर खींची गई एक काल्पनिक रेखा है। इस रेखा पर तिथि का परिवर्तन होता है। इस रेखा का निर्धारण 1884 में वाशिंगटन में संपन्न एक सम्मेलन में किया गया। 


ये रेखा महज़ सुविधा के लिये बनाई गई है| जब कोई जलयान पश्चिम दिशा में यात्रा करता है, तो उसकी तिथि में एक दिन जोड़ दिया जाता हैं और यदि वह पूर्व की ओर यात्रा करता हैं तो एक दिन घटा दिया जाता हैं। 

एक देश के विभिन्न भागों या द्वीपों का समय एक समान रखने के लिए इस रेखा को आर्कटिक महासागर में 75 डिग्री उत्तरी अक्षांश पर महाद्वीप से बचने के लिए पूर्व की ओर मोड़ बेरिंग जल सन्धि से निकाली गई। बेरिंग सागर में यह पाश्चिम की ओर मोड़ी गई हैं। फिजी द्वीप समूह तथा न्यूजीलैण्ड को दूर रखनें के लिए यह दक्षिण प्रशान्त महासागर में यह पूर्व की ओर मुड़ती है। 

जब यात्री पश्चिम दिशा का तरफ़ सफ़र करते थे तो घर लौटकर पाते थे कि एक दिन और बीत गया है| पहली बार दुनिया का चक्कर लगाने वाले मैगलैन के सह नाविकों ने यही पाया कि एक अतिरिक्त दिन बीत गया है, जबकि उन्होंने दिनों का बराबर हिसाब रखा था| उसी तरह अगर पूर्व दिशा की ओर से सफ़र करें तो एक दिन घट जाता था| इसलिए दुनिया को उत्तरी ध्रुव से दक्षिणी ध्रुव तक बांटने वाली एक रेखा की कल्पना की गई जिसके बाईं तरफ़ एक दिन आगे रहता है|

No comments:

Post a Comment